ये 5 चीजें कभी भी न खिलाएं छोटे बच्चों को

child food below 1 year, child care tips in hindi, which food should not eaten by child, Information about what to eat by child or do not eat which food in hindi

These 5 Things Never feed small children

ये 5 चीजें कभी भी न खिलाएं छोटे बच्चों को

जब एक बच्चा छोटा child होता है तभी उसके body को मजबुत बनाने की नींव लगनी start हो जाती है क्योकि बच्चे भविश्य के body का शारिरीक संतुलन आगे जा कर कैसा होगा यह उसके उपर आधारित होता है कि आपने उसको कैसा खाना पान दिया होता है। 
कई बार यह होता है जब एक child धिरे धिरे बडा होने लगता है परिवार के माता पिता के सामने यह समस्या आती है कि उस बच्चे को कौनसी चिजे खिलानी चाहिए और कौनसी चिजें नही 
यह देखा जाता है कि  जब कोई भी पति पत्नि अपने काम काज के चलते अपने family से दुर या अलग रहते है तो उनके सामने यह समस्या सबसे ज्यादा आती है जो मांए अपने परिवार के साथ ही निवास करती है उनकों इन समस्याओं को ज्यादा सामना नही करना पडता है। क्योकि यह जिम्मेदारी उसके family के लोग अपने उपर ले लेते है। 
नवजात child को पैदा होन के छह माह बाद जब कुछ ठोस और उपर का आहार देने की बारी  आती है। तो ज्याददातर Moms हिचकिचाहट  मे होती है कि बच्चे को क्या खिलाएं और क्या नहीं। ऐसे मे आपकेा , खासकर कुछ चीजें child को खिलाने पिलाने से बचना चाहिए। 

लेकिन इसके घराबने की कोई आवश्यकता  नही है आज के हमारे इस आर्टिकल मे आपकेां यही बताया गया है कि आप किस तरह से एक छोटे child का पालन पोशण सही प्रकार से कर पाते है। 
 

1.    गाय का दुध:

शोध के अनुसार यह कहा जा सकता है कि एक साल से कम उम्र के बच्चे को गाय का दुध या अंडा आदि नही देना चाहिए क्योकि वह उसका वह सफेद भाग नही पचा पाते है जिसके कारण उनको काफी Problems होती है। यह उनमें पेट में दर्द और एक्जिमा का कारण बन सकता है। child रोग विषेशज्ञों का कहना है कि गाय के दूध की बजाय उससे बने पदार्थ जैसे दही और चीज एक साल से कम उम्र के बच्चों को खिलाए जा सकते है। 
 

2.    शहद :

कहा जाता है शहद हमारे body के लिए काफी फायदेमंद होता है क्योकि शहद मे जो गुण पाए जाते है वह हमारे body को एक तरह से मजबुत बनाते है । आज के अनुपात के माप यह षहद को इन दिनों प्राकृतिक स्वीटनर के तौर पर काफी इस्तेमाल किया जा रहा है, लेकिन क्या यह आपकेा पता है की यह छोटे बच्चों के लिए नुकसानदायक हो सकता है। शहद मे ऐसे बहुत से बैक्टीरिया हो सकते है, यह बीमारी बच्चों को बाटुलिज्म नाम की बीमारी की वजह से हो सकती है। इस बीमारी के कारण कई बीमारी आपके बच्चे को घैर सकती है जैसे गैस, कब्ज, आलस और कभी कभी इसके कारण body मे पानी की कमी हो जाती है। 

3.    फलों का रस :

हमारी यह धारणा होती है कि बच्चों के लिए फलो का ज्यूस काफी फायदेमंद और लाभकारी हो सकता है लेकिन आपका यह सोचना कितनी हद सही है चलिए देखते है फलों के ज्यूस मे चीनी की मात्रा अधिक होती है यह अधिक चीनी एक बच्चे के लिए नुकसान दायक हो सकती हैं । क्योकी फल का जब ज्यूस निकल जाता है तो लगभग फल मे मौजुद उसके गुण समाप्त हो जाते है। इससे अच्छा यह होता है कि आप अपने बच्चे को फलो के ज्यूस की जगह उसे फल को मेश करके खिलाए। 

4.    मछलियां :

Fish को कभी भी एक साल से कम उम्र के बच्चे को नही खिलानी चाहिए क्योकि काफी नुकसान दायक होती है इससे आपके बच्चे को एलर्जी भी हो सकती है। हमारा यह मानना है कि इन जैसे जल जीवों को बच्चों को क्या बडों को भी नही खाना चाहिए क्योकि इन सभी पारे की मात्रा अधिक पाई जाती  है जो की एक ईंसानी body के लिए काफी नुकसानदायक है। 
 

5.    बच्चों को रखें chocolate आदि से दुर :

रिसर्च के अनुसार यह कहा जा सकता है कि छोटे बच्चों को टाफी, चाकलेट , आदि जो चीजें बहुत ही ज्यादा मिठी होती है। उन चिजों से थोडा दुर रखें. क्योकि यह चिजे आपके बच्चे के लिए नुकसान दायक साबित हो सकती है। इसकी बजाय बच्चों को प्राकृतिक रूप से मिठी चीजो को जैसे पपीता, केला, सेव आदि देना काफी अच्छा होगा और आपके बच्चे को किसी भी प्रकार का नुकसान भी नही पहुचाते हे। अगर आप सोचते है कि चाकलेट आदि के पोषक तत्व होते है तो यह सोचना आपके गलत है क्योकि इन सब कोई भी किसी भी प्रकार का पोषक तत्व नही पाया जाता है यह पदार्थ गले मे भी अटक सकते है। चीनी वाले पेय जैसे सोडा, जिनमे कैफीन होता है, बच्चों को बिल्कुल भी न दें। 

 

13 Comments


  1. Kailash Panwar
    May 04,2016

    I thote that s are nice argument

Leave a reply