दांत के रोग - Dental Care Tips & Dant Dard ka Gharelu Ilaj Ayurvedic Nuskhe

 दांत के रोग, Home treatment, Dental Care tips, disease, Dant Dard ka Gharelu Ilaj, Nuskhe, Teeth , ke desi saral ilaj, दन्त के रोगों के घर में इलाज के नुस्ख़े,  दांतों के दर्द का सरल इलाज, upchar, deshi, Ayurvedic, dental care tips, savdhani, bachav, sadan se, kaise kare, what is, how to, karan, payriya rog ke lakshan, Pyorrhoea, cause of, home remedies, ki dekhbhal, problems,masudo me sujan, kido se bachav

दांत के रोग 

Dental Care Tips & Dant Dard ka Gharelu Ilaj Ayurvedic Nuskhe 

प्रकृति ने प्रत्येक जीव को शरीर के सभी अंग सम्पूर्ण जीवन काल तक उपयोग करने हेतु दिए है, तो फिर मनुष्य के दांत समय से पहले क्यों चले जाते है, यह एक आम धारणा है की अब तो उम्र आ गई है अब दांत सबसे पहले जायेंगे.  अनियमित दिनचर्या और कुछ सामान्य Dental Care Tips की जानकारी न होने के कारण ही संभवः ऐसा होता है. आज हम आपको Dant Dard ka Gharelu Ilaj Ayurvedic Nuskhe भी बताएँगे.

What is Paryiya / Pyorrhoea disease ( पायरिया रोग )

परिदंतिका रोग या पायरिया रोग हमारे मसूड़ों में होने वाला गंभीर रोग है जो की शुरू में मसूड़ों की सुजन से शुरू होता है लेकिन इसका अंत समय से पूर्व ही दांतों को गिराकर होता है. सामान्यतः प्रकृति ने हमें दांत पुरे जीवन भर उपयोग में लेन हेतु दिए हैं, लेकिन इस पायरिया नामक बीमारी से रोगी के दांत समय से पूर्व हिलने लगते है और गिर जाते है.

दांतों, जीभ और पुरे मुंह की नियमित और भलीभांति सफाई न होने से दांत के बीच में खाना सड़ने लगता है, बेक्टीरिया को पनपने का मौका मिल जाता है जिससे मुंह से बदबू, मसूड़ों में सूजन, मसूड़ों में ब्लड आने लगता है, ये पायरिया योग के लक्षण होते है. इस रोग से दांतों के साथ साथ मसुडो को भी नुकसान होता है, मसूड़ों के अन्दरजो हड्डी दांतों के लिए सपोर्ट होती है, वह धीरे धीरे गलने लग जाती है, और मसूड़े निर्बल कमजोर हो जाते है, दांत हिलना शुरू कर देते है और दांत अपने समय से पहले ही विदा ले लेते है.

Home Dental care tips दांतों की देखभाल संबधी सरल टिप्स

  • Dental care के सबसे जरुरी है दांत की सफाई ,प्रत्येक सुबह के साथ साथ रात्रि में सोने से पूर्व भी Toothbrush और किसी भी अच्छे ब्राण्ड के Toothpaste से हल्के हाथ से मंजन करें.
  • अपने टूथब्रश को कम से कम तीन महीनों में Replace करें, क्योंकि इतने समय चलने के बाद यह खुरदरे हो जाते है जो की दांतों की सफाई करने के स्थान पर उन्हें ही रगड़कर उनकी Thickness  को कम करते है.
  • हमेशा Shoft Toothbrush ही उपयोग में लावें.
  • कुछ भी खाने के बाद कुर्ला अवश्य करें, क्योंकि जो भी खाना हम खाते है वह दांतों के बीच में, ऊपर और जीभ पर चिपक जाता है, जो की सडन पैदा करता है.
  • Fiber युक्त पदार्थों का सेवन अधिक करें.
  •  अत्यधिक गर्म या ठंडी वस्तुओं के सेवन न करें.
  • मुंह के दोनों तरफ के दांतों को उपयोग में लेकर खाने को खाए, कभी भी सिर्फ एक तरफ के दांतों से खाने को न चबाये, इससे दूसरी तरफ के दांतों के बीच में तथा उनके ऊपर खाना जमा होने लग जाता है और इससे पायरिया रोग भी हो सकता है.
  • दांतों में किसी भी दर्द होने पर किसी भी Painkiller का उपयोग स्वतः न करें, डेंटिस्ट से जाँच करवाए तथा उनके निर्देशों का पालन करें.

13 Comments


  1. NameBablu singh
    April 19,2017

    Comment dant me kede lage hai

  2. Name mdraju
    February 27,2017

    Comment masudo koglne se rokane ka upy

  3. Ajay Kumar
    January 25,2017

    Dear Sir, Mera last ka daant dayin or se bilkul sarr chuka hai or but senstivity se pareshan rahta hun. jab maine doctor se dikhaya to unhone nikalwane ko suggest kia.So mai ye janna chahta hun ki nikalwane k alwa v koi or rasta hai.Kyonki maine paper me padha tha ki daat kavi nai nikalwana chahiye.Isse bahut sari dusri bimari hone ka khtara badh jata hai.

  4. nisha
    November 06,2016

    dant ke upar dant nikla he kaise thick kare

  5. vinita shukla
    September 09,2016

    dant me kida laga hai aur masudo sujan bhi hai

  6. bhola saroj
    May 10,2016

    payaria

Leave a reply