जानिए घर में घड़ी और दर्पण रखने का उचित स्थान - Where to Place in the house - Clock, Watch and Mirror

clock

घड़ी रखने का उचित स्थान learn where proper place in the house to clock watch and the mirror in hindi

कालचक्र की गणना का कार्य घड़ी करती है. गणना का मालिक बुध होता है. बुध का चंद्रमा  शत्रु है और मंगल गुरु के बुध शत्रु है. अतः उत्तरी ईशान, दक्षिण दिशा, अग्निकोण में घड़ी नहीं लगायें. शेष सभी दिशाएं शुभ है.

घड़ी को कभी भी बंद नहीं रखना चाहिए, ख़राब होकर बंद हो गई हो तो उतार कर घर से हटा दें, वर्ना आपकी समय दशा भी रुकने लगेगी.

 

दर्पण रखने का उचित स्थान

दर्पण का प्रतिबिम्ब भासित होता है अतः प्रतिबिम्ब के के ग्रह चन्द्र, बुध, रोशनी का मालिक सूर्य तथा चित्रांकन का मालिक शुक्र, इन चारों ग्रहों का इस पर अधिकार होता है. इस कारण दर्पण के लिए सबसे श्रेष्ठ दिशा उत्तर-पूर्व है. दक्षिण में दर्पण नहीं लगाना चाहिए. पश्चिम में सामान्य है. दर्पण की ऊंचाई इस तरह रखे की सूर्य किरणों की चकाचौंध हमारी आँखों पर नहीं पड़े.

mirror

 

मांगलिक चिन्ह

अपने मुख्य द्वार पर मांगलिक चिन्ह लगाना सौभाग्य की वृद्धी करता है. स्वास्तिक, कलश, बेल-बुटें, हाथ व स्वास्तिक सहित जैन साहित्य का प्रतीक चिन्ह. स्वास्तिक के अन्दर चार बिंदु भी होना चाहिए इसके बिना स्वास्तिक अधुरा होता है.

मछली का चिन्ह, कछुए का चिन्ह, दौड़ते हुए हिरन का चित्र, घुड़सवारी व हाथी पर सवारी का चित्र शुभ रहता है.

भवन के मुख्य द्वार कि समय समय पर कलष, श्रीफल, पुष्प् आदि से इसकी शोभा बढ़ाते रहना चाहिए।

 

 

Small Business govt jobs Health tips panchang 18+ only

 

Leave a reply