51 शक्तिपीठ - Name List of Fifty One Shakti Peeth place location of devi sati in India, Bangladesh, Pakistan, Nepal and Sri Lanka

51 शक्तिपीठ - Name List of Fifty one Shakti Peeth place location of devi sati in India, Bangladesh, Pakistan, Nepal and Sri Lanka in hindi, Information about 52 Shakti peeth in world, bavan shatipeeth ke naam aur unke sathan konse hai, kya hai, kaise, total kitne hai, as per hindu shastra,

51 शक्तिपीठ - Name List of Fifty One Shakti Peeth place location of devi sati in India, Bangladesh, Pakistan, Nepal and Sri Lanka

 

  1. किरीट कात्यायनी शक्तिपीठ - पश्चिम बंगाल के हुगली नदी के तट लालबाग कोट पर स्थित है किरीट शक्तिपीठ, जहां सती माता का किरीट यानी शिराभूषण या मुकुट गिरा था। यहां की शक्ति विमला अथवा भुवनेश्वरी तथा भैरव संवर्त हैं।
  2. कात्यायनी शक्तिपीठ - वृन्दावन, मथुरा के भूतेश्वर में स्थित है कात्यायनी वृन्दावन शक्तिपीठ जहां सती का केशपाश गिरा था। यहां की शक्ति देवी कात्यायनी हैं।
  3. करवीर शक्तिपीठ - महाराष्ट्र के कोल्हापुर में स्थित है यह शक्तिपीठ, जहां माता का त्रिनेत्र गिरा था। यहां की शक्ति महिषासुरमदिनी तथा भैरव क्रोधशिश हैं। यहां महालक्ष्मी का निज निवास माना जाता है।
  4. श्री पर्वत शक्तिपीठ - इस शक्तिपीठ को लेकर विद्वानों में मतान्तर है कुछ विद्वानों का मानना है कि इस पीठ का मूल स्थल लद्दाख है, जबकि कुछ का मानना है कि यह असम के सिलहट में है जहां माता सती का दक्षिण तल्प यानी कनपटी गिरा था। यहां की शक्ति श्री सुन्दरी एवं भैरव सुन्दरानन्द हैं।
  5.  विशालाक्षी शक्तिपीठ -  उत्तर प्रदेश, वाराणसी के मीरघाट पर स्थित है शक्तिपीठ जहां माता सती के दाहिने कान के मणि गिरे थे। यहां की शक्ति विशालाक्षी तथा भैरव काल भैरव हैं।
  6. गोदावरी तट शक्तिपीठ - आंध्रप्रदेश के कब्बूर में गोदावरी तट पर स्थित है यह शक्तिपीठ, जहां माता का वामगण्ड यानी बायां कपोल गिरा था। यहां की शक्ति विश्वेश्वरी या रुक्मणी तथा भैरव दण्डपाणि हैं।
  7.  शुचीन्द्रम शक्तिपीठ - तमिलनाडु, कन्याकुमारी के त्रिासागर संगम स्थल पर स्थित है यह शुची शक्तिपीठ, जहां सती के उफध्र्वदन्त (मतान्तर से पृष्ठ भागद्ध गिरे थे। यहां की शक्ति नारायणी तथा भैरव संहार या संकूर हैं।
  8.  पंच सागर शक्तिपीठ - इस शक्तिपीठ का कोई निश्चित स्थान ज्ञात नहीं है लेकिन यहां माता का नीचे के दान्त गिरे थे। यहां की शक्ति वाराही तथा भैरव महारुद्र हैं।
  9.  ज्वालामुखी शक्तिपीठ -  हिमाचल प्रदेश के काँगड़ा में स्थित है यह शक्तिपीठ, जहां सती का जिह्वा गिरी थी। यहां की शक्ति सिद्धिदा व भैरव उन्मत्त हैं।
  10. भैरव पर्वत शक्तिपीठ  - इस शक्तिपीठ को लेकर विद्वानों में मतदभेद है। कुछ  गुजरात के गिरिनार के निकट भैरव पर्वत को तो कुछ मध्य प्रदेश के उज्जैन के निकट क्षीप्रा नदी तट पर वास्तविक शक्तिपीठ मानते हैं, जहां माता का उफध्र्व ओष्ठ गिरा है। यहां की शक्ति अवन्ती तथा भैरव लंबकर्ण हैं।

    कैसे कमाएं और बचाएं - How to Earn, Save, Profit & Invest Rupees - Tips

    कैसे कमाएं और बचाएं - How to Earn, Save, Profit & Invest Rupees - Tips

    NEXT

    Leave a reply