दिल्ली टूर - You Should Visit Top 21 Tourist Place in Delhi

दिल्ली टूर - You Should Visit Top 21 Tourist Place in Delhi in hindi, tourist information on Delhi, Delhi History in hindi, Travel Information, इंडियन कैपिटल डेल्ही, दिल्ली का इतिहास हिंदी में, kya hai, konse, how much, dilli me ghumne ki jagah, best sthan travelling in new delhi

lalkilla

दिल्ली टूर - You Should Visit Top 21 Tourist Place in Delhi

2001 की जनगणना के अनुसार 16,753,235 जनसंख्या वाली Delhi की राजधानी नयी दिल्ली है तथा 1, 483 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्रफल में 9,294 वर्गकिलोमीटर का जनसंख्या घनत्व है। यहां की प्रमुख भाषाएं हिन्दी, अंग्रेजी, पंजाबी एवं उर्दू है। यहां दो प्रमुख हवाई अड्डे पालम व इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है।दिल्ली की जलवायु ग्रीष्मकाल में आमतौर 35 से 45 डि.से. तथा शीतकाल में 4 से 20 डि.से. तथा जून से सितम्बर तक मानसून प्रमुख है।यमुना नदी के किनारे भारत के मध्य में बसी दिल्ली देश का दिल मानी जाती है। समस्त राष्ट्रों के दूतावास तथा हाई कमीशन कार्यालय अपने आंचल में समेटे दिल्ली ने अनेक उतार-चढ़ाव देखें हैं।

दिल्ली के प्रमुख दर्शनीय स्थल Delhi's Major Tourist Destination

लालकिला - LAL KILA  - The Red Fort

विश्वविख्यात लालकिला शंहशाह "शाहजहां" ने बनवाया था। 1638 में बनना प्रारम्भ होकर यह 1648 में पूरा हुआ। स्थापत्य कला व सौंदर्य की अनूठी प्रतिकृति दो किलोमीटर क्षेत्र में फैले लालकिला के मुख्य आकर्षण दीवान-ए-आम, दीवान-ए-खास, मोती मस्जिद व शाही स्नानगृह तथा रंगमहल है। खासतौर पर यहां के संग्रहालय मे मुगलिया शस्त्राशस्त्र, वस्त्र, आभूषण तथा उत्कृष्ट चित्रकला आज तक अविस्थत है।

राष्ट्रपति भवन  Rashtrapati Bhavan

भारत के सबसे बड़े पदस्थ अधिकारी राष्ट्रपति आवास कनाट प्लेस से एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित राष्ट्रपति भवन मुगल गार्डन तथा अपनी विशिष्टता के कारण विख्यात है।

राजघाट तथा विभिन्न समाधि स्थल Rajghat and Various Memrials

अहिंसा के दम पर अंग्रेजों को भारत छोड़ने के लिये विवश करने वाले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के समाधि स्थल राजघाट पर स्थित हरे भरे बाग व अन्य वातावरण पर्यटकों को बरबस आकृष्ट कर लेते हैं।

अक्षरधाम मंदिर  Akshardham Temple

आतंकी हमले के बाद से विशेषतः देश-विदेश में ख्याति प्राप्त कर गया अक्षरधाम करीब सौ एकड में पसरा है। अनोखी शिल्प विधाओं की आकर्षक स्थली अक्षरधाम भारतीय संस्कृति की अमूल्य थाती है।
गुलाबी पत्थर तथा श्वेत संगमरमर के संयोजन से विशाल परिसर के केन्द्र में स्थापित भव्य महालय अक्षरधाम में शिल्पमंडित 234 स्तम्भ, 9 घुमट मंडप्म्, 20 चतुष्कोण शिखर तथा 20 हजार से ज्यादा बेजोड स्थल है। इसके मध्य में पंचधातु निर्मित स्वर्णमंडित 11 फुट ऊंची भगवान स्वामी नारायण की नयनाभिराम प्रतिमा स्थापित है। भव्य सिंहासनों पर आसीन प्रभु श्री लक्ष्मीनारायण, श्री रामचंद्र-सीताजी, श्री कृष्ण-राधाजी तथा श्रीमहादेव-पार्वती की दर्शनीय संगमरमर की प्रतिमायें स्थापित है।

मैट्रो रेल  Delhi Metro

दिल्ली के आगोश से बाहर आकर ऊंचे खंभों पर दौड़ती मैट्रो रेल का सफर का दिव्य आन्नद प्रदान करता है। यदि दिल्ली प्रवास का अवसर मिले तो यह सवारी अवश्य करें। बरसों याद रखेंगे ।

चांदनी चौक  Chandni Chowk

यह पुरानी दिल्ली का एक प्रमुख बाजार है जो जामा मस्जिद से बिल्कुल सटा हुआ है। निकट ही कम्पनी गार्डन नाम से विख्यात एक खूबसूरत पार्क है। यहीं विख्यात पराठें वाली गली भी है। पास ही स्थित लाजपत राय मार्केट में इलेक्ट्राॅनिक सामान की थोक खरीद के लिए आस पास के प्रदेशों से भारी संख्या में लोग आते है। चावडी बाजार व नई सडक भी पास है।

कनाट पैलेस  Connaught Place

1920-21 में अंग्रेजों द्वारा प्रारम्भ कराया गया अत्याधुनिक मार्केट प्लेस है।

next page

जामा मस्जिद  Jama Masjid

मुगल शैली का अनुपम नमूना जामा मस्जिद है। मुगल बादशाह शाहजहां द्वारा निर्मित जामा मस्जिद का निर्माण 1650 में प्रारम्भ होकर 1658 में पूरा हुआ था। जामा मस्जिद की ऊंचाई 40 मीटर एवं तीन प्रवेश द्वार है। जिसमें एक साथ ढाई हजार लोग नमाज पढ़ सकते हैं।

हुमायूं का मकबरा  Humayun's Tomb

हुमायूं का मकबरा मथुरा रोड पर स्थित है। यह मकबरा शहंशाह अकबर की मां हमीदा बेगम द्वारा सन् 1564-73 में बनवाया गया था। हुमायूं, हुमायूं की पत्नी, दाराशिकोह तथा फर्रुखशियर व आलमगीर द्वितीय की कब्रे भी इसी मकबरे में हैं।

सफदरगंज का मकबरा  Safdarjung's Tomb

सन् 1753 में बनना प्रारंभ हुआ कई साल मंे बनकर तैयार हुआ। सफदरगंज लखनऊ का दूसरा नवाब था। यह 1739 में अपने चाचा सआदत खान का उतराधिकारी बना था। इसीक मौत सन् 1753 में हो गयी थी।

कुतुबमीनार  Qutub Minar

पर्यटन पर आये लोगों के लिये महरौली में स्थित कुतुबमीनार खासतौर से देखने योग्य है। कुतुबदीन ऐबक ने कुतुबमीनार का निर्माण कराया था ।

जंतर-मंतर  Jantar Mantar

ऐतिहासिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से खास महत्व रखने वाला यह स्थान संसद मार्ग पर स्थित है। सन् 1725 में जयपुर के राजा सवाई जयसिंह द्वारा यह बनवाया गया ािा।

इंडिया गेट   India Gate

विश्वविख्यात इंडिया गेट का द्वितीय विश्वयुद्ध 1921 में शहीद हुए भारतीय सैनिकों की स्मृति में निर्माण कराया गया था। बयालीस मीटर ऊंचे इंडिया गेट पर हमारे शहीद सैनिकों के नाम भी उत्कीर्ण है। यहां अखंड अमर जवान ज्योति प्रज्जवलित रहती है।

बिड़ला मन्दिर  Birla Mandir

लक्ष्मीनारायण मंदिर के नाम से भी जाने जाना वाला बिडला मंदिर कनाट प्लेस से लगभग दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। विख्यात उद्योगपति बिडला ने सन् 1938 में इस मंदिर का निार्मण कराया था। सारे देश में इस मंदिर की ख्याति है।

तुगलकाबाद किला  Tughlakabad Fort

गयासुदीन तुगलक ने सन् 1324 में इस किले का निर्माण कराया था। तुगलकाबाद किले में सात तालाब और एक कुआं है। इस कुएं की गहराई अस्सी फुट है। किल्ले के दरवाजों की संख्या तेरह है।

मकबरा निजामुदीन  Tomb Nijamudin

यह पाक मुस्लिम तीर्थ हजरत निजामुदीन के मकबरा के नमा से विख्यात है। सन् 1324-51 में इसे मौहम्मद तुगलक ने तामीर कराया था। इसके नजदीक ही शाहजहां की पुत्री जहांआरा की भी कब्र है। जहां उर्स के दौरान सिर्फ कव्वालियों का आयोजन किया जाता है।

 पुराना किला  Old Fort

किंवदती के अनुसार महाभारत काल में पाण्डवों द्वारा निर्मित कराया गया यह किला भारत का प्राचीन गौरव स्वयं में छुपाये हैं कालान्तर में शेरशाह सूरी द्वारा अपनी पसन्द के अनुसार दो बार इसका निर्माण कराया गया था। पास में स्थित आकर्षण झील में नौका विहार से मन बहलाया जा सकता है।

प्रगति मैदान  Pragati Maidan

राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय प्रदर्शनियों के लिये विख्यात तथा देश की राजधानी की शान समझे जाने वाले इस मैदान में अलग-अलग प्रदेशों के भव स्थित है।

चिडियाघर Zoo

इसका निर्माण 1959 में करवाया गया था। यहां अनेक जातियों के जीव-जंतु व पशु-पक्षी लाये गये है।

लोधी गार्डन Lodhi Garden

पर्यटकों के लिये यहां मनमोहक वातावरण है। यहां मौहम्मद शाह का मकबरा, बडा गुम्बद, शीश गुम्बद तथा सिकन्दर शाही मकबरा नामक चार चिताकर्षक भवन भी है।

फिरोजशाह कोटला Feroz Shah Kotla

बादशाह फिरोजशाह तुगलक ने सन् 1354 में फिरोजशाह कोटला की तामीर करायी गयी थी। छतीस फुट आठ इंच लंबा अशोक स्तम्भ भी यहां स्थित है। इसके चहुंओर तीस फुट चैडी दीवार भी स्थित है।

इसके अलावा दिल्ली और उसके आस-पास निम्न दर्शनीय स्थल भी मौजूद हैं -
1. काली माई का मंदिर 2. लोटर टैम्पल 3. योगमाया मंदिर 4. कात्यायनी मंदिर 5. राष्ट्रीय संग्रहालय  6. तीनमूर्ति भवन 7. सूरजकुंड 8. सोहना

यह  “दिल्ली टूर - You Should Visit Top 21 Tourist Place in Delhi  ”का लेख आपको कैसा लगा जरुर आपके विचार नीचे कमेंट्स बॉक्स में लिखे.

हमसे जुड़ने के लिए हमारा facebook पेज like करें facebook.com/dainiktime

facebook

rashifal panchang18+ onlyHealth tips

 

Leave a reply